Ayushman Card पर मिलता है पांच लाख रुपए तक का फ्री इलाज! बनवाना और भी आसान, जानें प्रक्रिया

 

दरअसल, लाभार्थी यूटीआईआईटीएसएल (UTIITSL) केंद्रों पर भी PM-JAY के तहत अपना ‘आयुष्मान कार्ड’ बनवा सकते हैं और इसे पा सकते हैं। वे अपनी पात्रता जांच करने के लिए नजदीकी यूटीआईआईटीएसएल केंद्र पहुंचें या फिर 14555 पर कॉल कर इस बारे में अधिक जानकारी ले लें।

ayushman bharat, ayushman card, utility news
चंडीगढ़ में एक स्वास्थ्य केंद्र के बाहर अपनी बारी का इंतजार करते लोग।

आयुष्मान भारत योजना (PM-JAY) के तहत पांच लाख रुपए तक का फ्री इलाज मिल जाता है। हालांकि, इसके लिए “आयुष्मान कार्ड” बनवाना पड़ता है, जो कि अब बनवाना और भी सरल हो गया है।

दरअसल, लाभार्थी यूटीआईआईटीएसएल (UTIITSL) केंद्रों पर भी PM-JAY के तहत अपना ‘आयुष्मान कार्ड’ बनवा सकते हैं और इसे पा सकते हैं। वे अपनी पात्रता जांच करने के लिए नजदीकी यूटीआईआईटीएसएल केंद्र पहुंचें या फिर 14555 पर कॉल कर इस बारे में अधिक जानकारी ले लें।

आयुष्मान भारत योजना के लिए कोई खास पंजीकरण प्रक्रिया तो नहीं है। पीएमजेएवाई उन सभी लाभार्थियों पर लागू होता है, जिनकी पहचान आरएसबीवाई योजना के तहत एसईसीसी करता है। इसकी पात्रता चेक करने के लिए पीएमजेएवाई पोर्टल पर जाएं और ‘एम आई एलिजिबल’ (क्या मैं योग्य हूं?) पर क्लिक करें।

आगे आपको अपना मोबाइल नंबर भरना होगा, जिसके बाद कैप्चा कोड आएगा और फिर आपको ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) जेनरेट करना होगा। आगे आप अपना राज्य चुनकर नाम, एचएचडी नंबर, राशन कार्ड नंबर या फिर मोबाइल नंबर से खुद के डिटेल्स खोज लें। सर्च के नतीजों के आधार पर आप वेरिफाई कर पाएंगे कि आपका परिवार इस योजना के तहत आता है या नहीं।

पीएमजेएवाई के लाभ पाने के एक बार योग्य हो जाने के बाद आप आसानी से इस योजना से जुड़ा ई-कार्ड भी पा सकते हैं। PMJAY Kiosk पर आपका आधार या राशन कार्ड वेरिफाई किया जाएगा, जिसके बाद आयुष्मान कार्ड जारी होगा। लाभार्थी को Aadhaar Card या फिर कोई अपने फोटो वाली सरकारी आईडी (जैसे Voter ID Card, PAN Card आदि) के साथ परिवार की आईडी (Ration Card, राज्य द्वारा मान्यता प्राप्त पहचान पत्र आदि) ले जानी पड़ती है।

बता दें कि आयुष्मान भारत योजना को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तौर पर भी जाना जाता है, जिसका मकसद आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग के लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं और सुविधाएं मुहैया कराना है।

23 सितंबर, 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी शुरुआत की थी और इस हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम के तहत करीब देश के 50 करोड़ नागरिक कवर होते हैं। PM-JAY के तहत कैंसर तक का इलाज कराया जा सकता है। हालांकि, सभी प्रकार के कैंसर के लिए उपचार का प्रकार और अवधि अलग-अलग होती है।

0 Comments