Chanakya Niti In Hindi: जानिए चाणक्य ने ऐसी कौन सी 4 स्थितियों के बारे में बताया है जिसमें फंसने पर इंसान खुद का ही नुकसान कर बैठता है। 
इस श्लोक के अनुसार कहीं अगर हिंसा भड़क जाए या एक साथ भीड़ हमला कर दे तो वहां से बचकर निकलना ही समझदारी है।

Chanakya Niti In Hindi: वैसे तो कहा जाता है कि लाइफ में चाहे जैसे भी हालात क्यों न हों उनका डटकर सामना करना चाहिए। लेकिन कभी-कभी कुछ सिचुएशन ऐसी हो जाती हैं जिनमें फंसने पर वहां से तुरंत भागने के रास्ते खोजना जरूरी हो जाता है। अगर आप इनका सामना करने की कोशिश करेंगे तो आपको नुकसान पहुंच सकता है। जानिए चाणक्य ने ऐसी कौन सी 4 स्थितियों के बारे में बताया है जिसमें फंसने पर इंसान खुद का ही नुकसान कर बैठता है।

उपसर्गेऽन्यचक्रे च दुर्भिक्षे च भयावहे
असाधुजनसंपर्के यः पलायति स जीवति

इस श्लोक के अनुसार कहीं अगर हिंसा भड़क जाए या एक साथ भीड़ हमला कर दे तो वहां से बचकर निकलना ही समझदारी है। क्योंकि भीड़ बेकाबू हो जाती है और वो कुछ नहीं देखती। यदि हम दंगा या हिंसा वाले क्षेत्र में खड़े रहेंगे तो उपद्रवियों की हिंसा के शिकार हो जायेंगे। अत: इस परिस्थिति में बचकर भाग निकलना ही सबसे अच्छा विकल्प माना जाता है।

अगर आप पर दुश्मन अचानक हमला कर दे तो ऐसे में मौका मिलते ही बचकर भाग निलकना ही भलाई है। क्योंकि आप अचानक से हुए हमले का जवाब देने के लिए तैयार नहीं होते और अगर ऐसी स्थिति में अपना साहस दिखाने की कोशिश करेंगे तो इससे आपको भारी नुकसान हो सकता है। इसलिए ऐसे में तुरंत भाग निकलना ही समझारी होती है।Next

जिस स्थान पर अकाल पड़ जाए तो उस स्थान को तुरंत छोड़ देना ही आपकी भलाई है। क्योंकि ऐसी जगह लंबे समय तक जीवित रहना मुश्किल हो जाता है।

यदि आपके पास कोई अपराधी या जिसका समाज में मान-सम्मान न हो ऐसा व्यक्ति आकर खड़ा हो जाए तो वहां से तुरंत निकल लेना ही आपके लिए अच्छा रहेगा। क्योंकि ऐसे इंसान के साथ खड़े होने पर आपकी इमेज खराब हो सकती है।