खुशहाल जिंदगी के लिए आचार्य चाणक्य ने कई नीतियां बताई हैं। अगर आप भी अपनी जिंदगी में सुख और शांति चाहते हैं तो चाणक्य के इन सुविचारों को अपने जीवन में जरूर उतारिए।

Chanakya Niti-चाणक्य नीति- India TV Hindi

आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार भले ही आपको थोड़े कठोर लगे लेकिन ये कठोरता ही जीवन की सच्चाई है। हम लोग भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दें लेकिन ये वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे। आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से आज हम एक और विचार का विश्लेषण करेंगे। आज का विचार दूसरों की नजरों में अच्छा बनने का प्रयास नहीं करना चाहिए इस पर आधारित है। 

'दूसरों की नजरों में कभी अच्छा बनने का प्रयास मत करो।' आचार्य चाणक्य

आचार्य चाणक्य के इस कथन का अर्थ है कि कई बार मनुष्य दूसरों की नजरों में उठने ले लिए अथक प्रयास करता है। कई बार ये प्रयास सही में वो दिल से करता है, तो कई बार ये प्रयास दिखावा मात्रा होता है। अगर आप भी कुछ ऐसा ही करते हैं तो ऐसा बिल्कुल ना करें। 

कई बार असल जिंदगी में ऐसा होता है मनुष्य दूसरों को इंप्रेस करने के चक्कर में खुद को ही भूल जाता है। वो ये बात भूल जाता है कि किसी को इंप्रेस करने से अच्छा है कि अपने आप को अच्छा बनाने का प्रयत्न करना। दूसरों को इंप्रेस करने के लिए अगर आप कोई भी दिखावा करते हैं तो वो ना केवल छल होगा बल्कि इससे आपका महज समय ही बर्बाद होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि जिस व्यक्ति को इंप्रेस करने के लिए आप ये सारी कोशिशें कर रहे हैं ऐसा नहीं है कि उसे कुछ नजर नहीं आएगा। 

अगर आप किसी को इंप्रेस करने के लिए अपने स्वभाव से उलट कोई काम कर रहे हैं तो वो सामने वाले को आसानी से दिख जाएगा। ऐसे में आप भले ही लाख कोशिश क्यों ना कर लें, सामने  वाले की नजरों में कभी उठ नहीं सकते। अगर आप किसी के लिए कुछ भी करना चाहते हैं तो वो दिल से करें। दिल से किया गया कोई भी काम दूसरे के दिल के रास्ते आसानी से पहुंच जाता है। इसलिए किसी को इंप्रेस करने से अच्छा है कि आप कोई ऐसा काम करें जिससे सबका भला हो। ऐसा करके आप अपने आप दूसरों की नजरों में ऊपर उठ जाएंगे।